Sunday, 2 September 2012

दिल मेरा धडकता है, वो बादलों से निकलता है।।।।



हुई मुश्किल की अब इबादत किसकी करूँ
दिल से "तू" जुबान से "तू" ईमान से "तू" निकलता है
चाँद पागल है , आवारा है , बैचैन है
दिल मेरा धडकता है, वो बादलों से निकलता है।।।।

No comments: