Thursday, 20 September 2012

कुछ इस तरह बरसा .

कौन सा साल था? कौन सा दिन ? कुछ याद नहीं..
तेरी यादों  का बादल  ,कुछ इस तरह बरसा ......

No comments: