Friday, 7 September 2012

तुमसे क्या कहें , क्या बात करें
दिल, की यह मर्जी है की हम चुप चाप रहें

No comments: