Sunday, 9 September 2012

कोई मेरा दिल चुरा कर चला गया

कोई मेरा दिल चुरा कर चला गया
कोई मेरे गीत गुनगुना कर चला गया
मैं कहाँ जाऊं, क्या कहूँ  क्या करूँ ??? ए दोस्त
कोई मेरे दिल पर हक जमा कर चला गया




No comments: