Sunday, 14 October 2012

चुप हो गए हैं आस

चुप हो गए हैं आस मेरे, शब्दों में ढल कर
जहन में रहते थे, मेरे कितने शान से ।।।। (वंदना )

No comments: