Saturday, 17 November 2012

हलचल पूछ बैठी

दिल से मेरे, एक अजनबी सी  हलचल पूछ बैठी
धरकन तेरी आज इतनी खामोश सी क्यूँ है ????


No comments: