Monday, 26 November 2012

तू साथ, चल तो मेरे,

तू साथ, चल  तो  मेरे,
गम की जमीं बाँट लेंगे
गीला गीला आसमान ओढ़ लेंगे
कभी  खुल के हंस लेंगे
कभी घुट के रो लेंगे
तू साथ तो चल मेरे
कभी अंधेरे से निकल कर
रौशनी पकड़ कर
हम दौडते फिरेंगे
तू साथ चल तो मेरे



No comments: