Saturday, 24 November 2012

साया


घर की दीवार पर  चढते अपने साये को 
धुप ढलते ही जमीन पर बिखरते देखती हूँ 

No comments: