Sunday, 4 November 2012

तेरा इंतज़ार

चलो फिर "आज" को अपने पहलू में सुलाया जाए
थक के चूर है तेरा इंतज़ार करके ......

No comments: