Thursday, 15 November 2012

कहाँ पढ़ा था तुम्हे, कुछ याद नहीं
दिल में ही रहो अखबार न बनो
(वंदना)

No comments: