Monday, 17 December 2012

हम तेरे दर पर आकर 
फिज़ा में तेरे दर्द खोजतें हैं।।। (वंदना )

No comments: