Thursday, 16 February 2012

मैं सिर्फ और सिर्फ तुमको सुनती हूँ..........

अगर मैं कहूँ तुमसे
या कभी न कहूँ तुमसे
या फिर भूल जाऊं तुम्हे
या भुला न पाऊ तुम्हे
तुम रोज याद दिलाते रहना
की तुम मेरे कौन हो

फूलों की खुशबू ,से
कांटो की चुभन से
ओस की बूंदों से
तितलियों से पूछ कर
तुम रोज बताते रहना
की तुम मेरे कौन हो

चंदा के दाग से
सूरज की आग से
धरती की सौंधी महक से
प्रीत और बेवफाई से पूछ कर
तुम रोज चिलाते रहना
की तुम मेरे कौन हो

मेरे दिल तुमको तो मालूम है
की मैं सिर्फ और सिर्फ तुमको सुनती हूँ..........













Wednesday, 15 February 2012

सपने

मेरी आँखों में सपने तेरे तेरते हैं
आईना देखता है मुझे तेरे कई सवाल लिए
मेरी जुल्फ की लटों में उगलियाँ तेरी उलझी सीं हैं
मेरे जज्बात में एक नयी नमी सी है



हर एक तन्हाई का आलम यू गुजारता  है दिल
की सिर्फ तुमको याद करता है और तुमसे बात करता है......

Tuesday, 14 February 2012

तेरी याद को नींद आ जाये ......

अब हर वक़्त तुम्हारी याद आती है
वक़्त को कहो, की थोडा सो  जाये
कभी मुझको, कभी तेरी याद को
थोड़ी  राहत मिले, 
कभी मुझको  कभी तेरी याद को
नींद आ जाये ......







मैं और तुम

कितनी दूर जा चुका आसमान,धरती से
कल तक तो रोज गले मिल जाता था....

valentines day 2012

तेरी ख़ुशरंग उदासी में जो सन्नाटा है,
मैं उसको अपने कहकहों से आ गुलज़ार करूँ ...
तेरी ये शर्त कि बस एक बार मिलना हो,
मेरी ये ज़िद है कि बस एक बार प्यार करूँ ..."