Sunday, 11 March 2012

Main aur meri bechaini.... aksar yeh baat kartey hain..


रूह की धरकन मेरी जब कभी भी आसमान मे थिरके
आसमान का दिल भी पिघलता पानी होता है