Sunday, 27 January 2013

बैचैन रूह


मसरूफ दुनिया के मुसाफिर अक्सर भूल जाते हैं
रूह कितनी बैचनी से  दिन रात किया  करती है।



No comments: