Tuesday, 19 February 2013

रात

"रात" उठ के तकिये से सुबह के पास चली
दिल का दर्द भी सुरमई बना तुमको ढूंढता है.    

No comments: