Tuesday, 19 February 2013


मैं तुम्हे भूल जाऊं या न भूला सकूँ कैसे कहूँ 
ये जिद्दी दिल है!देखे इसकी क्या मेहरबानी है।।

No comments: