Monday, 18 March 2013

प्यार क्या है??


प्यार 

प्यार क्या है??

अनूठा प्यार 
जानते हैं न ??? हम सब
मिलता है कई बार, कई रूप में 
राह में,जीवन के 
सोचतें है अक्सर हाँ बिलकुल पता है 
सच में पता है , कहीं तो पढ़ा है 
क्या सच , जानती हूँ मैं ? की प्यार क्या है ?
पर वो अजीब सी उलझन क्या है ?
जो गले में संकोंच बन कर बैठती है 
शब्दों को जिह्वा पर रखती है 
पर निकालने  नहीं देती 
कंठ में एक बीमार बैचैनी 
कहती है, फिर चुप रहती है 
पूछते हैं लोग, कई बार 
क्या तुम्हे मुझसे प्यार है???
सरल वाकया है न ?
फिर मोहर क्यूँ मांगता है जमाना ?
पाक प्रेम का एक नहीं है  ठीकाना
वो इसीसे, उससे , सबसे करता है प्यार
कहता नहीं है, आँखों से बोलता है
दो मीठे बोल,
लोग करतें हैं एहसासों का मोल-तोल
पर अनकहे  शब्दों की भी व्याख्या होती है क्या???
और बोल देने भर से प्यार बढ़ जाता है क्या????
अनूठा प्यार
जानते हैं न ??? हम सब






No comments: