Thursday, 2 May 2013

बाँहों में छोड़ रखा है…

खुदी खुद से  जोर लिया था तुमको
अब खुदी तुमको आजाद बाँहों में छोड़ रखा है… 

No comments: