Friday, 24 May 2013

तुझसे उलझ गया 


इस उलझन भरी दुनिया में
तेरी सुलझी हुई प्रीत है 
तेरी सुलझी हुई प्रीत में 
मन मेरा कैसे तुझसे उलझ गया 

No comments: