Tuesday, 2 July 2013

एक आस

एक आस यूँ भी सही
की खुद से समझौता कर पाती मैं
 

No comments: