Wednesday, 11 September 2013

तुझ तक।

मिलेगी कभी  "मंजिल" भी तो पूछेगी
किस तरह राह बदल बदल कर मैं पहुँची  तुझ तक। 

No comments: