Thursday, 12 September 2013

मेरी यादों में ही जीते रहे तुम रोजाना
 मरने को तो ख्वाब मेरे रोजाना मरते हैं

No comments: