Monday, 9 September 2013

खामोशी।

मेरी मासूम  ख्वाइशें पढ़ती रहती है
तुम्हारी अनकही बातें,तुम्हारी बोलती खामोशी। …… 

No comments: