Thursday, 12 September 2013

गहरी साँस है जो तुमको पढ़ती है ,चुप रहती है
दिल भी ख़ामोशी से सर झुकाए रहता है

No comments: