Monday, 21 October 2013

तुम


मैं जब भी खोलती हूँ  बरसों की बंद चिठियाँ
तुम धीरे से उतरते हो मेरे जहन की सीढियाँ 

No comments: