Monday, 28 October 2013

मेरी  ही धुप में सुलगता मेरा साया
तुम्हारी छाँव को तलाशता है

 

No comments: