Monday, 28 October 2013

याद बन बन कर गिरे मेरे आँसू
चाँद से रूठ कर चांदनी भी आयी है




 

No comments: