Saturday, 21 September 2013

जहाँ पहुँचने  में मेरे दो -चार दिन  जाया होते हैं
वहाँ ,कैसे तुम्हारी यादें, मेरा इंतजार  करती हैं?