Sunday, 12 January 2014

praveen shakir

अब भी बरसात कि रातों में बदन टूटता है
जाग उठती है अजब ख्वाइशें अंगड़ाई  की
 

No comments: