Sunday, 16 February 2014

दोस्ती


हाँ धूप में, बहारों ने, फूलों से दिल्लगी की  थी
जैसे तुमने उनसे, इनसे और  हमसे दोस्ती की थी 

No comments: