Monday, 17 February 2014

तुम और मैं

तुम ओस की  बूंद बन गिरते रहो
मैं गुलाब की पंखुडी ,बन तुम्हे बटोरती रहूँ



 

No comments: