Thursday, 27 March 2014

वादा

क्या कहूं ?क्यों इस मोड़ पर बैठी रही ताउम्र
जिंदगी बोल कर गयी थी "यहीं मिलूँगी "  

No comments: