Saturday, 29 March 2014

मैं और तू

सर उठा तो  दूं 
आसमान में चेहरा तेरा  दीखता है
सर झुका तो दूँ तो
मेरी परछाईं के साथ तू चलता है

No comments: