Saturday, 26 April 2014

धूप




धीरे से गुनगुनाती धूप बिखर गयी 
अँधेरों को मनाती धूप मचल गयी 

No comments: