Tuesday, 14 October 2014

आओ ना


मीठे सपने बिखर  रहे हैं 
तुम सपना बन कर आओ न 

देखो मुझको  भूल मत जाना 
ऐसी भूल बन जाओ ना 

मेरी तुम्हारी, तुम्हारी  मेरी 
ऐसी  कहानी बन जाओ ना

बेइन्त्बाह  बेपनाह मोहब्बत 
बनकर आँखों मेँ  बस जाओ ना










No comments: