Friday, 17 October 2014

तुम्हारी "याद "

तुम्हारी "याद " को भी बुरी आदत है
हर वक़्त,बेवजह,यूहीं आते रहनी की........ 

No comments: