Wednesday, 22 October 2014

Diwali 2014

मिटटी के दिए में छोड़ आई थी बचपन
बिजली की चमक में दिल बैचैन सा क्यों है





No comments: