Thursday, 13 November 2014

तुरपाई

कच्चे धागों से ही सही
फटते दिल की तुरपाई कर दो  

No comments: