Thursday, 25 December 2014

तुम्हारे ख्यालों के पदचिन्ह आज 
 आँखों से आँसू बन ढलकते हैं। .... 

No comments: