Friday, 3 October 2014

प्यार करो।

दिल की बात जब चुपके से अंगड़ाई ले
पलक खुलते ही, सिर्फ  "वो" ही सुनाई दे
 ख्यालातों  की भीड़ में जाने से पहले
होठों की गर्म लकीरों मे उतर जाने दो

"उसको"  तुम  ऐसे, ही अभी प्यार करो।