Friday, 13 February 2015

क्या ??

मेरे शहर की गलियों मे
मेरे अनगनित अरमान बिखरें हैं

तुमने कभी उठा कर देखा क्या???



No comments: