Sunday, 28 June 2015

महक होती है क्या हंसी यादों की ?
सुलगते बदन से क्यों उठती है धुँआ बन कर ?

No comments: