Monday, 17 August 2015

यादों का एक गहरा सा रिश्ता है 
जब तक जहाँ तक याद करोगे मुझको 
तब तक वहां तक मर न पाऊँगी मैं भी 

No comments: