Tuesday, 8 December 2015



जैसे अँधेरी सी रात में एक चमकतासा  सितारा हो
तुम्हारे दिल में बंद मैं,कभी कभी  क्या टिमटिमाती हूँ?????




No comments: