Friday, 27 February 2015

"कल"

नयी कलम , नया पन्ना , नया आज
तुमको क्यों "कल" में  खोजता  रहता है