Monday, 13 April 2015

सूरज

मैं रोज सूरज को अपने नए जुर्म बताती हूँ
रोज सूरज  उन्हे अँधेरे मे दफना आता है