Wednesday, 3 June 2015

आरज़ूओं  को दिल  में ग़म बन के रहना आ गया
सहते सहते हम को भी रंज सहना आ गया