Monday, 31 August 2015

पल


तुम्हारी आँखों के चमकते इशारे से
एक पल चुरा कर लायी थी मैं
कई  दिनों , महीनों,  सालों से
 पसर कर  बैठा है वो एक पल।