Wednesday, 18 November 2015

मुस्कराहट


तो कौन सी मुस्कराहट खरीद पाओगे बोलो??
वो जो तुमको देख कर आँखों में उतरती है
या फिर तुम्हे पढ़ कर होठों के दाए कोने पर  रूकती है
या फिर तुम मेरे हो ये सोंच  कर दिल में
लाल रंग बन कर दौड़ती है
या फिर उदासी के मुखौटे से खिलखिला कर हंसती है
या वो जो यादों के बीच बिना पूछे
युहीं गुदगुदाती है
या फिर वो जो कल रात सपने में
स्कूल के बस्ते में परोठो सी महकती है
या फिर वो जो भवों की सिलवटों को
हटा कर  चमकती है
या वो जो खिलखिलाकर , हँस  कर
दबे पाँव चेहरे पर रहती है

 तो कौन सी मुस्कराहट खरीद पाओगे बोलो??