Monday, 11 January 2016

कितना बैचैन सा है ये दिल

घर की याद नहीं आती
बाहर दिल नहीं लगता 

No comments: